मेरी एक कविता जीवन पर

                                         मेरी एक कविता जीवन पर
मुश्किल है इस जिन्दगी मे अच्छा , करना , निभालेना रिश्तों को ,
इस युग मे चारो तरफ अंधकार है , हाहाकार है
छोटा सा जीवन है ये ,कभी सुख कभी दुःख
दोनों संग साथ चलते , कभी मन को छलते
कभी मज़बूरी .कभी लाचारी
क्या है ये जीवन ,इस जीवन मे क्यों होता ये सब
न चाहकर भी सब करना पड़ता है ,सहना होता है
तब कैसे रहे खुश जीवन मे
कैसे करोगे मित्रता जीवन से !
Previous
Next Post »

2 comments

Write comments
27 October 2012 at 02:16 delete

kitne rang h ziwan ke ye ajab kahani h, kuch mile to kuch kho jaye reet ye purani h , kisko kya mila h yaha sab apni apni kismat ki kahani h, zindagi se dosti to har kisi ko har haal me nibhani h, our ye duniya to yu hi aani jani faani h .

Reply
avatar
Neera Jain
AUTHOR
3 November 2012 at 09:45 delete

waaaaah jaisingh ji thanx a lot

Reply
avatar