जिंदगी

                                                जिंदगी
 जिंदगी मै तुमसे क्या कहू
तुमने कितने रंग मुझमे भर  दिए
नया विश्वास दिया, नया अहसास दिया
मै बनी खुद मै एसी यहाँ दूजा न कोई 
मै हु बे खबर
न कोई मंजिल न कोई हमसफ़र
फिर भी जिन्दगी लाती बहार
जिंदगी  तुमसे मै क्या कहू
Previous
Next Post »

3 comments

Write comments